इस घटना की कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर आज सुबह से ही वायरल हो रहा है |

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से आज पुलिस की बेहद अमानवीय कृत सामने आया है | वहां की पुलिस ने आज एक डॉक्टर को पहले बुरी तरह पीटा और फिर उसके बाद उसे सड़क पर घसीटते हुए थाने ले गयी | पुलिस ने उसे थाने ले जाने लिए उसके दोनों हाथों को चेन से बांधा और फिर ऑटो में डालने के लिए उसकी बुरी तरह पिटाई की।

इस घटना की कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर आज सुबह से ही वायरल हो रहा है |

ख़बरें आ रही है कि दो महीने पहले डॉ. सुधाकर ने एन-95 मास्क कमी को लेकर खुलकर अपनी बात रखी थी। जिसके बाद अनुशासनहीनता के आरोप में उसे निलंबित कर दिया गया था |

डॉ. सुधाकर ने मार्च के महीने में आरोप लगाया था कि डॉक्टरों को एन-95 मास्क नहीं दिए गए थे और उन्हें 15 दिनों के लिए बिना मास्क के काम करने के लिए कहा गया था। स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें झूठ फैलाने के आरोप में निलंबित कर दिया था।

पुलिस का कहना है कि जब पुलिस ने उसे नियंत्रित करने की कोशिश की तो डॉ सुधाकर ने उनके साथ अशिष्ट व्यवहार किया और एक कांस्टेबल का मोबाइल फोन छीनकर उसे फेंक दिया। पुलिस का ये भी कहना है कि चिकित्सक कुछ समय से मनोवैज्ञानिक समस्याओं से पीड़ित था।

पुलिस कमिश्नर आरके मीणा ने बताया की ‘पुलिस ने डॉ. सुधाकर को हिरासत में ले लिया और उन्हें स्टेशन पर स्थानांतरित कर दिया, ताकि राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात में असुविधा से बचा जा सके।’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि डॉक्टर नशे में धुत था। उन्हें राज्य के किंग जॉर्ज अस्पताल में चिकित्सा परीक्षण के लिए भेजा गया है। पुलिस शराब परीक्षण रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद उचित आईपीसी धाराओं के तहत डॉ. सुधाकर के खिलाफ कार्रवाई पर फैसला करेगी। मीणा ने कहा कि एक कांस्टेबल को डॉक्टर की पिटाई के लिए निलंबित कर दिया गया है।

Comments