पटना एम्स में आज से क्लिनिकल ट्रायल भी शुरू हो चुका है।

पटना: बिहार में हुए कोरोना विस्फोट और बढ़ते संक्रमणों से लड़ने के लिए पटना एम्स को कोरोना संक्रमण के इलाज के कोरोना का डेडीकेटेड अस्पताल बना दिया गया है | बताया जा रहा है कि पटना एम्स के मेडिकल सुप्रीटेंडेंट द्वारा स्वास्थ्य विभाग को यह प्रस्ताव दिया गया था।

बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए विभाग ने एम्स को कोरोना पॉजिटिवों के इलाज के लिए डेडीकेटेड अस्पताल के रूप में घोषित किया है |

अब कोविड-19 के इलाज के लिए डेडीकेटेड अस्पताल बन जाने के बाद एम्स प्रशासन के तरफ से कार्रवाई कर यहाँ भर्ती सामान्य मरीजों की संख्या में कमी लाने का प्रयास किया जायेगा | जिससे पटना एम्स में अधिक से अधिक कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती किया जा सके।

इससे पहले बिहार में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे से बात की। फोन पर हुई बातचीत के दौरान केंद्रीय मंत्री ने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री से कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए पटना एम्स को कोविड अस्पताल घोषित करने का आग्रह किया था।
बताते चलें कि आईसीएमआर ने कोरोना वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के लिए देश के जिन 12 संस्थानों को चुना है, उसमें पटना एम्स भी शामिल है। मिली जानकारी के अनुसार, पटना एम्स में आज से क्लिनिकल ट्रायल भी शुरू हो चुका है

Comments