13 दिनों के लगातार धरने के बाद भी उत्तरी दिल्ली नगर निगम के हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टर्स को जब सैलरी नहीं मिली और इसे लेकर कोई आश्वासन नहीं मिला, तो अब उन्होंने भूख हड़ताल पर बैठने का फैसला किया है. इससे पहले, गुरुवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तीन अस्पतालों के डॉक्टर्स ने सैलरी को मांग को लेकर संयुक्त रूप से जंतर-मंतर पर प्रदर्शन भी किया था. दिल्ली कांग्रेस ने इन डॉक्टर्स के प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया था. वहीं आम आदमी पार्टी भी लगातार इनके पक्ष में बात कर रही है और उत्तरी दिल्ली नगर निगम पर सैलरी देने के लिए दबाव बना रही है.

‘केंद्र से मांगी थी वित्तीय सहायता’

इधर उत्तरी दिल्ली नगर निगम लगातार दिल्ली सरकार पर आरोप लगा रहा है कि दिल्ली सरकार निगम को फंड नहीं दे रही है, इसलिए निगम अपने कर्मचारियों को सैलरी नहीं दे पा रहा. आपको बता दें कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर जयप्रकाश ने बीते दिनों वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात भी की थी और इस मुलाकात में उन्होंने एमसीडी के लिए वित्तीय सहायता की मांग की थी. लेकिन उधर से भी मात्र आश्वासन मिला और अब तक डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ्स सैलरी की राह देख रहे हैं.

‘समाधान नहीं, सियासत’

लेकिन एमसीडी और भाजपा ने इसे लेकर दिल्ली सरकार पर निशाना साधा और कहा कि दिल्ली सरकार सहायता नहीं सियासत कर रही है. दिल्ली सरकार और एमसीडी के बीच की इस लड़ाई में  डॉक्टर पिस रहे हैं. हिंदूराव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन का कहना है कि सैलरी हमारा मूल अधिकार है, हमें जुलाई महीने से वेतन नहीं मिला है, ऐसे में परिवार चलाने में मुश्किल हो रही है. जब तक वेतन संबंधी मांग पूरी नहीं होती, तब तक हड़ताल जारी रहेगी.

‘वेतन पाना मूल अधिकार’

गौरतलब है कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के हिंदूराव अस्पताल में बीते 13 दिन से स्वास्थ्य सेवाएं ठप हैं. यहां के डॉक्टर्स और कर्मचारियों को जुलाई महीने से सैलरी नहीं मिली है. डॉक्टर अस्पताल परिसर में ही धरना दे रहे हैं. आपको बता दें कि हिंदूराव अस्पताल एक कोरोना अस्पताल था. लेकिन डॉक्टर्स के धरने के बाद यहां के कोरोना मरीजों को दिल्ली सरकार के दूसरे कोरोना अस्पतालों में भेज दिया गया. दिल्ली सरकार के शहरी विकास विभाग ने तीनों एमसीडी के कमिश्नर्स को इसे लेकर पत्र भी लिखा था कि अगर वे कर्मचारियों को सैलरी नहीं दे पा रहे हैं, तो अस्पतालों को दिल्ली सरकार को हैंड ओवर कर दें.

Comments